अंजलि से शादी…गांगुली से यारी, देखें सचिन तेंदुलकर की स्पेशल फोटोज़….

दुनिया के महानतम बल्लेबाजों में से एक सचिन तेंदुलकर आज (24 अप्रैल) 49 साल के हो गए. सचिन ने महज 16 साल 205 दिन की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा और 24 साल तक क्रिकेट की दुनिया पर राज करने के बाद नवंबर 2013 में उन्होंने इंटरनेशल क्रिकेट पर विराम लगाया.

सचिन तेंदुलकर का जन्म 24 अप्रैल 1973 को मुंबई के दादर इलाके के निर्मल नर्सिंग होम में राजपुर के एक मराठी ब्राह्मण परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम रमेश तेंदुलकर जो कि एक जाने माने मराठी उपन्यासकार थे और माता का नाम रजनी तेंदुलकर है। इनके पिता रमेश तेंदुलकर ने इनका नाम अपने पसंदीदा संगीतकार सचिन देव बर्मन के नाम पर रखा था।

सचिन तेंदुलकर अपने पिता की चार सन्तानो में से दूसरे क्रम के है इनके बड़े भाई का नाम अजीत तेंदुलकर और इनसे छोटे भाई का नाम नितिन तेंदुलकर है और सबसे छोटी एक बहन है जिसका नाम सविताई तेंदुलकर है। बड़े भाई अजीत तेंदुलकर ने ही इन्हे क्रिकेट खेलने के लिए प्रोत्साहित किया था।

इन्होने दादर में स्थित शारदा आश्रम विद्या मंदिर से अपनी शिक्षा प्रारंभ की। यहीं पर ये क्रिकेट कोच रमाकांत अचरेकर के संपर्क में आये और अपने क्रिकेट जीवन का प्रारम्भ किया। प्रारम्भ में ये शिवाजी पार्क में सुबह शाम घंटो क्रिकेट का अभ्यास किया करते थे और बाद में एम आर एफ पेस फाउण्डेशन के अभ्यास प्रोग्राम में तेज गेंदबाज बनने हेतु अभ्यास किया करते थे।

गेंदबाजी के कोच डेनिस लिली ने इनकी बल्लेबाजी की प्रतिभा को समझा और इन्हे बल्लेबाजी पर ध्यान केंद्रित करने को कहा और यहीं से इन्होने बल्लेबाजी की ओर ध्यान देना प्रारम्भ किया और विश्व के सबसे महान बल्लेबाजों में अपना नाम अंकित कराया।

1990 में ये अंजलि मेहता से मिले और 24 मई 1995 को अंजलि से शादी कर ली। बाद में 12 अक्टूबर 1997 को इनके यहाँ एक बेटी सारा का जन्म हुआ और उसके बाद 24 सितंबर 1999 को एक बेटे अर्जुन का जन्म हुआ। वर्तमान ये इनके यही दो बच्चे हैं।

प्रारम्भ में स्कूल के जीवन से ही सचिन अपने बड़े भाई के साथ मुंबई की लोकल टीम में खेला करते थे और तभी इनकी मुलाकात रमाकांत अचरेकर से हुयी जो कि क्रिकेट के कोच थे। फिर इन्होने क्लब क्रिकेट में भी धीरे धीरे भाग लेना शुरू किया। इनके क्रिकेट करियर में नया मोड़ तब आया जब 14 नवंबर 1987 को रणजी ट्रॉफी के लिए उनका चयन बॉम्बे टीम में कर लिया गया परन्तु यह चयन उनका मुख्य खिलाडी के तौर पर न होकर अतिरिक्त खिलाडी के रूप में हुआ था।

सचिन ने अपने करियर की शुरुवात 15 वर्ष की अवस्था में 11 दिसंबर 1988 को बॉम्बे टीम की तरफ से गुजरात के विरुद्ध अपने पहले घरेलु क्रिकेट मैच से की और बिना आउट हुए 100 रनों की पारी खेली। इन्होने 17 वर्ष की उम्र में करांची में अपना पहला टेस्ट मैच 15 नवंबर 1989 को खेला। इसके बाद 18 दिसंबर 1989 को जिन्ना स्टेडियम में पाकिस्तान के खिलाफ अपना पहला एक दिवसीय मैच खेला।

18 मार्च 2012 को अपना अंतिम एक दिवसीय मैच पाकिस्तान में खेला और 23 दिसंबर 2012 को एक दिवसीय क्रिकेट से सन्यास लेने की घोषणा की। 14 नवम्बर 2013 को इन्होने अपना अंतिम टेस्ट मैच वेस्ट इंडीज के विरुद्ध वानखेड़े स्टेडियम में खेला और क्रिकेट जगत से पूर्णतः सन्यास लेने की घोषणा की और दो दिन बाद भारत सरकार ने इन्हे भारत रत्न सम्मान देने की घोषणा की।

सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली ने वनडे क्रिकेट में भारतीय टीम को कई मुकाबलों में शानदार शुरुआत दिलाई। वीरेंद्र सहवाग के इंटरनेशल क्रिकेट में आने के बाद गांगुली ने ओपनिंग की बजाय मिडिल ऑर्डर में खेलना शुरू कर दिया था। इस तस्वीर में 1983 विश्व कप का पार्ट रहे संदीप पाटिल भी दिखाई दे रहे हैं।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *