विदेशी बीज से देसी खेती, बिहार का किसान हुआ मालामाल, कुछ ऐसी है इनकी सक्सेस स्टोरी

बिहार के पूर्णिया रानीपतरा के किसान शशिभूषण सिंह ने पहली बार देसी तरीके से विदेशी सब्जी जुगनी लगा कर अच्छा उत्पादन कर रहें हैं। उन्होंने कहा – “कृषि विज्ञान केंद्र से मिलकर मैंने विदेशी सब्जी के तौर तरीके सीखे और विज्ञान केंद्र की मदद से बीज मंगवाया और बिल्कुल देसी तरीके और अन्य फसलों की तरह देख रेख कर अच्छा उत्पादन कर रहे हैं।”

शशिभूषण आगे बताते हैं की ये सब्जी काफी स्वादिष्ट और विटामिन से भरपूर हैं। वहीं किसान विदेशी सब्जी का उत्पादन अच्छा होता हैं। खरीदार खुद आकर 40 रुपया प्रति किलो की दर से इसे खरीद रहे हैं। इसकी मांग अच्छी हैं। उन्होंने कहा इस सब्जी में लगभग एक पौधा से तकरीबन 5 से 6 किलो सब्जी निकलती हैं। जो लगभग 200 रुपये का मुनाफा देता हैं। इच्छुक किसान मिलकर जानकारी ले सकते हैं।

विदेशी सब्जी जुगनी का फायदा:पूर्णिया के रानीपतरा के किसान शशि भूषण सिंह बताते हैं कि उन्होंने कृषि विज्ञान केंद्र जलालगढ़ से जाकर जानकारी ली। बाजार के दुकानों से विदेशी सब्जी जुगनी की बीज उपलब्ध करवाया। किसान बोलते हैं कि यह बीच दुकान से लेकर उन्होंने अपने खेतों में अपने तरीके से लगाया।

यह विदेशी सब्जी जुगनी की खेती फिलहाल पूर्णिया जिला के कोई भी किसान नहीं कर रहे हैं। पूर्णिया का एकलौता किसान शशि भूषण सिंह जिन्होंने अब तक कई बार कृषि क्षेत्र में पुरस्कृत भी हो चुके हैं। उन्होंने अपने प्रयास से इस बार विदेशी सब्जी को पूर्णिया के धरती पर उगाने का प्रयास किया।

किसान शशिभूषण सिंह बताते हैं कि विदेशी सब्जी जुगनी को 15 दिसंबर को लगाया गया है। वह टूट रहा है, जो खुले बाजारों में 40 रुपया प्रति किलो आसानी से बिक जाता है। उन्होंने अपने आसपास की दुकानों में भी आसानी से बेच लेते हैं। सतीश बताते हैं कि यह सब्जी में बहुत ज्यादा विटामिन है।

विदेशी सब्जी की खेती करने की विधि जानिए:अगर कोई भी किसान इस तरह का विदेशी सब्जी जुगनी की खेती लगाना चाहता हैं, तो उसके लिए सर्वप्रथम खेत को तैयार करना होगा। उसमें गोबर, वर्मी कंपोस्ट डालकर 3 फीट चौड़ा और 2 फीट लंबा पर एक बीज को लगाना होगा। पौधा निकलने के 20 दिन बाद हल्की सिंचाई करनी होगी।

उसके बाद हल्का एनपीके और डीएपी देकर मिट्टी चढाना होगा। अगर किसी भी तरह का बीमारी लग जातीहै, तो कीटनाशक के लिए इंडोफिल 45 का छिड़काव कर फसल को बीमारी से बचा सकते हैं। इन विदेशी सब्जी जुगनी की खेती भी साधारण फसलों की तरह ही होती हैं।

पीला और होता होता है इसका रंग:किसान शशि भूषण सिंह बताते हैं की यह खीरा की तरह दिखने वाला जुगनी काफी स्वादिष्ट होता है। यह दो रंग में फलता है हरा और पीला। एक का वजन 1 केजी तक होता है। यह झींगा सब्जी की तरह फायदेमंद होता है। एक पौधा से 5-6 केजी सब्जी निकलती है।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *