Hit and Run : कानून क्या है? देशभर बस और ट्रक ड्राइवर में क्यों कर रहे प्रदर्शन?

Hit and Run  : कानून क्या है?  देशभर बस और ट्रक ड्राइवर में क्यों कर रहे प्रदर्शन?
Hit and Run :भारतीय न्याय संहिता यानी bns कानून के तहत ऐसे ड्राइवर जो लापरवाही से  Hit and Run गाड़ी चलाकर गंभीर सड़क दुर्घटना का कारण बनते हैं और पुलिस या प्रशासन के किसी भी अधिकारी को सूचित किए बिना भाग जाते हैं उन्हें दस साल तक की सजा. ये सात लाख का जुर्माना हो सकता है. पहले आईपीसी में ऐसे मामलों में दौ साल की सजा थी. नए कानून का विरोध क्यों? देशभ के ड्राइवरों ने भारतीय न्याय संहिता दौ हज़ार तेईस के तहत.
हीट रन मामलों में जेल की सजा में वृद्धि के खिलाफ  विरोध प्रदर्शन शुरू किया है. किसी दुर्घटना के आसपास की स्थिति को  Hit and Run  समझाते हुए ड्राइवरों ने कहा कि इसमें बहुत सारे Hit and Run कारक शामिल होते हैं. उनमें से कुछ ड्राइवरों के नियंत्रण से परे होते हैं.
यदि कोहरे के दौरान खराब विजिबिलिटी के कारण कोई दुर्घटना होती है तो ड्राइवर को बिना किसी गलती  Hit and Run के जेल में सरण पड़ सकता है. हड़ताल में भाग लेने वाले ड्राइवरों में ट्रक चालक, निजी बसचालक और कुछ मामलों में सरकारी भचालक भी शामिल है.
Hit and Run
Hit and Run

सोशल मीडिया

सोशल मीडिया पर लोगों ने दावा किया है कि कुछ राज्यों में कैब ड्राइवर भी विरोध प्रदर्शन में शामिल हो गए हैं. थार के Hit and Run अर्वल निवासी ट्रक चालक संतो कुमार ने कहा, नए कानून में सजा और जुर्माने का प्रावधान बहुत ज्यादा है.
हम अपने परिवार में अकेले कमाने वाले हैं. तीन बच्चे और पत्नी हैं. अगर हमको सजा हो गई तो  Hit and Run हम खेत बेचकर भी जुर्माना नहीं दे पाएंगे। केंद्रीय मंत्री जनरल विके सिंह ने कहा, यात्रियों को परेशानी नहीं होनी चाहिए. नया कानून यात्रियों की मदद के लिए है. पहले ड्राइवर भाग जाता था अब एक नया कानून बना जिससे ड्राइवर सजग रहे.
वहीं कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने कहा, बिना प्रभावित वर्ग से चर्चा    और बिना विपक्ष से संवाद के कानून बनाने की जिद लोकतंत्र की आत्मा पर निरंतर प्रहार है. इसके साथ ही उन्होंने कहा, सीमित कमाई वाले इस मेहनती वर्ग को कठोर कानूनी भट्टी में झोंकना उनके जीवन को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है और Hit and Run  साथ ही इस कानून का दुरुपयोग संगठित भ्रष्टाचार के साथ वसूली तंत्र को बढ़ावा दे सकता है.
truck-driver-protets
truck-driver-protets
अब सवाल उठता है कि पेट्रोल पंपों पर लंबी  Hit and Run कतारे क्यों लगी हैं.
लोग ईंधन की कमी के डर से अपने वाहन के टैंक भरवाने के लिए पेट्रोल पंपों पर भीड़ लगा रहे हैं Hit and Run क्योंकि ट्रक चालक हिट एंड रन कानून का विरोध कर रहे हैं. नासिक जिला पेट्रोल डीलर एसोसिए संगठन के अध्यक्ष.

Hit and Run

भूषण घोसले ने कहा की अगर आंदोलन बंद नहीं किया गया तो Hit and Run नासिक जिले के कई ईंधन स्ट्रेशन बंद हो जाएंगे क्योंकि वो डीलर को अपने टैंकर्स भरने की Hit and Run  अनुमति नहीं दे रहे हैं. पीेट बंद कर दिए गए हैं और एक भी टैंकर को ईंधन ले जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है.
दंड कानून में प्रावधान को वापस लेने की मांग को लेकर Hit and Run महाराष्ट्र और हिमाचल प्रदेश के अलावा बिहार, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों में भी ड्राइवरों ने काम करना बंद कर दिया है. मध्य प्रदेश के परिवहन मंत्री राव उदय प्रताप सिंह ने आंदोलन रथ ड्राइवरों से इस मुद्दे पर सरकार से चर्चा करने की अपील की है.

पिछले तीन दिनों से जारी हड़ताल Hit and Run मुता बिहार, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजान, छत्तीसगढ़, यूपी, उत्तराखंड, गुजरात और पंजाब में है. Hit and Run  लेकिन महाराष्ट्र में इसका असर ज्यादा देखने को मिल रहा है. देश दुनिया की तमाम खबरों के लिए जुड़े रहिए। 

यह भी पढ़े :

Gautam Adani: आप अंबानी के एंटीलिया को जानते हैं, लेकिन क्या आप अडानी के घर के बारे में जानते हैं?

Gold: दुबई से अहमदाबाद कितना सोना लाया जा सकता है? जानिए टैक्स फ्री सोना लाने के नियम

S*x Chocolate: यह 21 साल का लड़का से’क्स चॉकलेट बेच कर कमाता हैं हर साल 90 करोड़ रुपए!

Adani-Hindenburg Case : अडानी हिंडनबर्ग के मामले में सुप्रीम कोर्ट आज सुनाएँगे फैसला

 

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *